आज है वर्ल्ड बैंबू डे, जानिए इसका उद्देश्य और थीम

LIVE PALAMU NEWS

लाइव पलामू न्यूज: प्रत्येक वर्ष 18 सितंबर को विश्व बैंबू दिवस मनाया जाता है। जिसका मुख्य उद्देश्य लोगों के बीच बांस के लाभों के बारे में जागरूकता बढ़ाने और रोजमर्रा के उत्पादों में इसके उपयोग को बढ़ावा देना है। मुख्य रूप से पूर्व और दक्षिण पूर्व एशिया में विभिन्न उद्देश्यों के लिए बांस का उपयोग किया जाता है। बांस पोएसी परिवार की एक लंबी, पेड़ जैसी घास है। जिसमें 115 से अधिक जेनेरा और 1,400 प्रजातियां शामिल हैं।नॉर्थ ईस्ट इंडिया में लगभग बांस की 110 वैरायटी उपस्थित हैं। 18 सितंबर 2009 को विश्व बांस संगठन ने बैंकॉक में पहली पार विश्व बांस दिवस की घोषण की थी। डब्ल्यूबीओ का इस दिन को मनाने के पीछे उद्देश्य बांस की क्षमता को और अधिक विस्तार देने के अलावे दुनिया भर के क्षेत्रों में नए उद्योगों के लिए बांस की नई खेती को बढ़ावा देना और सामुदायिक आर्थिक विकास आदि के लिए स्थानीय स्तर पर पारंपरिक उपयोगों को बढ़ावा देना है।

बैंबू को गरीब लोगों का टिंबर या ग्रीन गोल्ड भी कहा जाता है। बांस मृदा संरक्षण में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, क्योंकि बाढ़ के समय यह मिट्टी को पकड़ के रखता है। बांस का पेड़ बंजर भूमि या खराब भूमि के लिए सुधारक का भी काम करता है। विश्व बांस दिवस हर साल किसी ना किसी थीम पर बेस्ड होता है। इस वर्ष इसका थीम है अधिक बांस लगाने और बांस के विकास को बढ़ावा देना।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!