बिहार- झारखंड पुलिस का सिरदर्द बना 15 लाख का यह इनामी नक्सली अपने दो साथियों के साथ गिरफ्तार, जानिए कौन है वो…..

LIVE PALAMU NEWS

लाइव पलामू न्यूज/मेदिनीनगर: शुक्रवार कोऔरंगाबाद एसपी कातेश कुमार मिश्र एवं पलामू एसपी चंदन कुमार सिन्हा ने संयुक्त रुप से प्रेसवार्ता की। इस दौरान उन्होंने बताया कि गुप्त सूचना के आधार पर पलामू पुलिस व औरंगाबाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए आतंक के पर्याय माने जाने वाले 15 लाख का इनामी नक्सली विनय यादव उर्फ कमल जी को उसके दो अन्य नक्सली साथियों के साथ गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि सीआरपीएफ तथा जिला पुलिस द्वारा संयुक्त छापेमारी अभियान चलाया जा रहा था। इस अभियान के दौरान पुलिस को यह सफलता हाथ लगी है।

नक्सली की गिरफ्तारी के बाद उसकी निशानदेही पर छकरबंधा के जंगल में छिपाकर रखे गए 20 लाख रुपये कैश भी बरामद किए गए हैं। एसपी ने बताया कि यह रुपये पूर्व नक्सली जोनल कमांडर संदीप यादव के द्वारा लेवी में वसूले गए थें। जिसका उपयोग उनके मरने के बाद विनय यादव के द्वारा नक्सलियों के सपोर्ट में किया जा रहा था। उन्होंने बताया कि पुलिस के लिए यह तीसरी बड़ी उपलब्धि है क्योंकि इसके पूर्व भी विभिन्न जिलों के द्वारा चलाए जा रहे संयुक्त ऑपरेशन से 50 लाख के इनामी नक्सली मिथिलेश मेहता और कुख्यात नक्सली विजय आर्या को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल हुई थी।

एसपी चंदन सिन्हा ने बताया कि 15 लाख का इनामी नक्सली विनय यादव उर्फ कमल जी उर्फ किसलय जी उर्फ मुराद जी के साथ-साथ अमरेंद्र पासवान उर्फ सत्य पासवान एवं इदरीश अंसारी को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार कुख्यात इनामी नक्सली विनय यादव ने घटना में अपनी संलिप्तता स्वीकार की है। उसने बताया कि वह वर्ष 2003 से नक्सली संगठन में सक्रिय रहा है।वह औरंगाबाद जिला के मदनपुर सलैया ढिबरा एवं देव थाना क्षेत्र में एवं गया जिला एवं झारखंड राज्य के सीमावर्ती क्षेत्रों में लगातार अपने संगठन को मजबूत करने में सक्रिय भुमिका निभाता आ रहा है।

वहीं 2014 में नक्सली संगठन का जोनल कमांडर एवं सबजोनल कमांडर के रूप में संगठन का नेतृत्व करता आ रहा है। एसपी ने बताया कि इनकी गिरफ्तारी से नक्सलियों का मनोबल गिरा है। नक्सली गतिविधियों पर अंकुश लगाए जाने के लिए लगातार छापेमारी अभियान जारी रहेगा। कुख्यात नक्सली को शरण एवं सहयोग देने के आरोप में गिरफ्तार तीन आरोपी सहित दो अभियुक्तों के विरुद्ध दाउदनगर थाना में कांड दर्ज है। गौरतलब है कि 2016 में बांकेबाजार थाना के डुमरी नाला पर हुए आईडी ब्लास्ट में दस जवान शहीद हुये थे। इस घटना में विनय यादव का ही हाथ था। नक्सली विनय यादव औरंगाबाद जिले के कई थानों समेत पड़ोसी जिला गया व झारखंड के पलामू जिले में भी मामला दर्ज है।

विनय यादव कुल 54 नक्सली कांड का अभियुक्त है। नक्सली अभियान में बेहतर कार्य करने पर पुलिस पदाधिकारियों को एसपी ने 20 हजार रूपये नगद राशि देकर सम्मानित किया। इस छापेमारी अभियान में योगेंद्र ढ़कोले, रंजीथ, रुप नारायण बिरौली, मुकेश कुमार, कुमार ऋषि राज, अजय कुमार, दाउदनगर थानाध्यक्ष, ओबरा थानाध्यक्ष, मदनपुर थानाध्यक्ष, जिला आसूचना ईकाई औरंगाबाद शामिल थें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!