सरकार अपने रवैए को बदले, वरना राज्य के युवाओं के प्रकोप से भस्म हो जायेगी : आशीष भारद्वाज।

LIVE PALAMU NEWS

लाइव पलामू न्यूज: राज्य सरकार गठन उपरांत से ही युवाओं को छलने का काम कर रही है, युवाओं से झूठ बोलने का काम कर रही है। जिस तरह से धनबाद में हमारे नाबालिग बहनों पर पुरुष पदाधिकारियों के द्वारा लाठी बरसाया गया है यह राज्य के लिए शर्म की बात है और इससे शर्म की बात यह है की अबतक उन अधिकारियों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है। इससे ये साफ पता चलता है की हेमंत सरकार को हमारी बहन – बेटियों की कितनी परवाह है। ये बाते युवा समाजसेवी आशीष भारद्वाज ने कही।

उन्होंने कहा कि अभी राज्य कैबिनेट बैठक में जो नई नियोजन नीति पारित की गई है ओ भी राज्य सरकार के पूर्व में लिए गए वोट तुष्टिकरण के निर्णयों में से ही एक है, राज्य चयन आयोग के परीक्षाओं में लैंग्वेज और लिटरेचर में जीन 12 रीजनल भाषाओं को शामिल किया गया है उनमें न हिंदी है, न संस्कृत है, न भोजपुरी है, न मगही है जो की सरकार के दोहरे मापदंडों को प्रकट करता है। ये सरकार भाषा के नाम पर सामाजिक विद्वेष पैदा करना चाहती है, हमे किसी भी भाषा से कोई आपत्ती नही है पर पलामू प्रमंडल में बोली जानेवाली जो क्षेत्रीय भाषाएं (हिंदी, मगही,भोजपुरी) है जिनकों रीजनल लैंग्वेज में शामिल न करके ये सरकार हम पलामू वासियों के साथ सौतेला व्यवहार कर रही है।

हिंदी में हम संवाद करते है, हिंदी में हमारा सारा आधिकारिक कार्य होता है, हिंदी हमारी मातृ भाषा है, हमारे झारखंड के हर हिस्से में हिंदी बोली, पढ़ी और लिखी जाती है पर नहीं पता हमारे मुख्यमंत्री को हिंदी से क्या नफरत है की हिंदी को हमारे क्षेत्रिय भाषा मानने को तैयार ही नहीं है। हम पूछना चाहते है की अगर उर्दू हमारी क्षेत्रीय भाषा हो सकती है तो हिंदी क्यों नहीं।

अंगीकृत 12 भाषाओं को जननेवालो की संख्या पलामू प्रमंडल में न के बराबर है, इससे ये सरकार स्पष्ट क्या करना चाहती है आज हर एक युवा आज पूछ रहा है..? क्या राज्य सरकार को ये नहीं पता की पलामू भी राज्य का ही अंग है.?
ऐसे में राज्य सरकार पलामू प्रमंडल के युवाओं को नौकरी के नाम पर फिर टोपी क्यों पहनना चाह रही है.? हमलोग राज्य सरकार के इस नीति को हम हरगिज लागू नहीं होने देंगे, अगर हेमंत सोरेन की सरकार अपने निर्णय को नहीं बदलती है तो पलामू की धरती से एक भयंकर युवा आंदोलन उठेगा जिसके ताप में ये निरंकुस सरकार भस्म हो जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Hello there
Leverage agile frameworks to provide a robust synopsis for high level overviews.
error: Content is protected !!