लाभुकों को पता भी नही और निकल गए पैसे, जांच को लेकर प्रखंड पदाधिकारी से लाभुक ने की शिकायत

LIVE PALAMU NEWS
लातेहार: हेरहंज प्रखण्ड में मनरेगा योजना में एक बार फिर मनरेगा कर्मी और बिचोलिये की मिलीभगत से बिना कार्य कराये ही पैसे की निकासी कर ली गई है। ऐसा ही मामला प्रखण्ड मुख्यालय स्थित घूरे गांव का सामने आया हैं जहां पर मनरेगा योजना से बनने वाले वर्मी कम्पोस्ट योजना में लाभुकों को पता भी नही और पैसे की निकासी कर ली गई है।
गौरतलब हो कि हेरहंज पंचायत के घूरे गाँव मे वितीय वर्ष 2020/21 में घूरे गांव के प्रभु प्रसाद, विनय वर्मा और बासुदेव प्रसाद के नाम से मनरेगा योजना के तहत वर्मी कम्पोस्ट बनाने की स्वीकृति प्रदान की गई थी। परन्तु लाभुक को पता भी नही और तीनों लाभुकों के खाते से पैसे की फर्जी तरीके से निकासी रोजगार सेवक और बिचोलिये की मिलीभगत से कर ली गई।
मनरेगा पोर्टल पर लाभुकों की सूची
इन लाभुकों की हुई है फर्जी निकासी
मनरेगा पोर्टल के मुताबिक विनय कुमार का योजना संख्या 3406003009/IF/7080901580125 है जिसमे 5028 रुपये निकासी हुई है। वहीं बासुदेव प्रसाद के योजना संख्या 3406003009/IF/7080901580126 इसमे 3864 रुपए की निकासी हुई है। जबकि प्रभु प्रसाद के वर्मी कम्पोस्ट योजना संख्या 3406003009/IF/7080901580128 में 5028 रुपये की निकासी की गई है। कुल मिलाकर तीनो योजनाओ में 13920 रुपये की निकासी की गई है। उधर जानकारों का मानना है कि यदि हेरहंज पंचायत के योजनाओ की बारीकी से जांच कराई जाए तो कई चौकाने वाले मामले सामने आएंगे।
आवेदन की कॉपी
सूत्र बताते है कि यहां पर बिचोलिये और मनरेगा कर्मी की मिलभगत से कई योजनाओं में बिना कार्य कराये ही निकासी की गईं है। योजनाओं का लाभ सीधे लाभुकों को नहीं मिल कर बिचौलिया इसका लाभ उठाते है। हेरहंज प्रखण्ड में योजनाओ को स्वीकृति बिचोलिये के माध्यम से की जाती है। लाभुक का नाम होता है और कार्य बिचोलिये कराते है।
लाभुक प्रभु प्रसाद के खाते से की गई भुगतान राशि की सूची
उधर सोशल मीडिया पर मामला वायरल होने के बाद मनरेगा कर्मी ने विनय वर्मा के घर पास कार्य लगा दिया। इस बाबत जब हेरहंज प्र वि पदा मेघनाथ उराँव से बात की गई तो उन्होंने बताया की लाभुक द्वारा आवेदन प्राप्त हुई है मामले की जाँच कर कारवाई की जायेगी।
क्या कहते है रोजगार सेवक
इस मामले में जब हेरहंज पंचायत के रोजगार सेवक जितेंद्र रजक से बात किया तो उन्होंने बताया की कोई फर्जी निकासी नहीं हुई है सभी का वर्मी कम्पोस्ट का निर्माण कराया गया है ।
क्या कहना है लाभुक का
लाभुक बासदेव प्रसाद, प्रभु प्रसाद का कहना है की हमारा वर्मी कम्पोस्ट की स्वीकृति प्रदान तो की गई थी पर हमलोग वर्मी कम्पोस्ट का निर्माण नहीं कराये है पर अब जानकारी मिली है की हमलोगों का वर्मी कम्पोस्ट के नाम से पैसे की निकासी कर ली गई है। जानकारी के बाद प्रखण्ड कार्यालय में जाकर फर्जी निकासी का आवेदन दिए है। वही बिनय वर्मा का कहना है की हमारा भी फर्जी निकासी कर ली गई थी जब आवेदन दिया हूँ तो हमारा वर्मी कम्पोस्ट बनाने के लिए शुक्रवार को रोजगार सेवक द्वारा काम लगाया गया है ।
आनन-फानन में करवाया जा रहा है काम
क्या कहते है बीपीओ
बीपीओ चंदन कुमार का कहना है कि इस मामले के संबंध में मुझे भी जानकारी मिली है मैं मीटिंग से निकलने के बाद जांच करता हूँ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!