सिमडेगा के युवक का पलामू में हुआ अपहरण, 24 घण्टे के अंदर पलामू पुलिस ने सकुशल कराया मुक्त ।।

LIVE PALAMU NEWS
#live palamu news / पलामू : झारखंड के सिमडेगा के युवक को अपहरण के बाद पलामू पुलिस ने 24 घंटे के भीतर सकुशल मुक्त करा लिया है। अपहरण के बाद युवक को छोड़ने के एवज में 5 लाख रूपये फिरौती की मांग की गयी थी। घटना के तुरंत बाद पलामू-गढ़वा पुलिस की कार्रवाई में जहां युवक अपहरणमुक्त हुआ, वहीं इस घटना को अंजाम देने वाले अपहृत के दोस्त सहित तीन अपराधियों को गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने अपहरण के बाद फिरौती मांगने वाले मोबाइल फोन को बरामद किया है। जिले के पुलिस अधीक्षक चंदन कुमार सिन्हा ने बताया कि सूचना प्राप्त हुई कि सिमडेगा के मुकेश साहु नामक युवक का अपहरण कर लिया गया है एवं रामगढ़ थाना क्षेत्र के दिनाबार से सटे जंगल क्षेत्र में रखा गया है।
सूचना के सत्यापन के बाद आवश्यक कार्रवाई हेतु थाना प्रभारी चैनपुर उदय कुमार गुप्ता एवं रामगढ़ के प्रभात रंजन राय नेतृत्व में छापामारी टीम का गठन किया गया। गढ़वा के रंका के अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी रंका सुर्दशन आस्तिक के नेतृत्व में एक टीम सहयोग हेतू आई। छापामारी टीम द्वारा त्वरित कार्रवाई करते हुए रामगढ़ के दिनाबार जंगल से अपहृत मुकेश साहु को बरामद किया गया। मुकेश साहू सिमडेगा के बाजार टोली थाना क्षेत्र के फुलवाटांगर का रहने वाला है। साथ ही अपहरण में शामिल विक्की सिंह, रितेश पूर्ती एवं विनय पूर्ती को भी दिनाबार से गिरफ्तार किया गया। विक्की गढ़वा जिले के रमकंडा के मंगराही के, जबकि रितेश और विनय दिनाबार के रहने वाले हैं। फिरौती मांगने में प्रयुक्त अपहृत के मोबाइल फोन को बरामद किया गया।
प्रेसवार्ता कर जानकारी देते पलामू एसपी

कैसे दिया घटना को अंजाम…?
दरअसल, सिमडेगा के बाजार टोली थाना क्षेत्र के फुलवाटांगर का रहने वाला मुकेश साहू गढ़वा में रहकर आटा चक्की दुकान में काम करता है। रक्षाबंधन का त्योहार बिताकर युवक गढ़वा जाने के लिए गत 24 अगस्त की शाम 4 बजे मेदिनीनगर में बस से उतरा। यहां उसे उसका दोस्त गढ़वा जिले के रकमंडा थाना क्षेत्र के मंगराही निवासी विक्की सिंह मिला। वह उसे घूमाने के बहाने से अपने साथ रामगढ़ थाना क्षेत्र के दिनाबार में अपने एक दोस्त के घर ले गया। यहां उसे रात में रखा और अगले दिन 25 अगस्त को पास के सुनसान गौशाला में ले जाकर बांध दिया। 26 अगस्त को अपहरणकर्ताओं ने मुकेश साव के पिता को कॉल कर पांच लाख रुपये की फिरौती मांगी। 26 अगस्त की शाम को यह जानकारी सिमडेगा पुलिस से पलामू पुलिस को मिली।

अपहृत के मोबाइल फोन से मांगी फिरौती

घटना के बाद अपहृत का एक छोटा मोबाइल फोन से उसके परिजनों से बात कर फिरौती मांगी। सूचना मिलने पर सिमडेगा पुलिस पलामू पुलिस से संपर्क साधा। सूचना के बाद कार्रवाई तेज की गयी। इधर, पुलिस कार्रवाई के भय से अपहर्ता मुकेश साहू को गौशाला से जंगल की ओर ले गए। एसपी ने बताया कि मुकेश साहू गरीब परिवार से आता है। 5 लाख फिरौती देना उसके परिजनों के लिए मुश्किल थी। उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति में फंसने से बचने के लिए अपहृर्ता युवक की हत्या कर सकते थे, लेकिन तत्काल कार्रवाई ने युवक की जान बचा ली। पलामू एसपी चंदन कुमार सिन्हा ने बताया कि जानकारी मिलने के बाद पुलिस ने सभी बिंदुओं पर अनुसंधान करते हुए रामगढ़ थाना क्षेत्र के दीनाबार में छापेमारी कर मुकेश साव को मुक्त करवाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Hello there
Leverage agile frameworks to provide a robust synopsis for high level overviews.
error: Content is protected !!