#palamu: कैसे पहुंचेगा अंतिम व्यक्ति तक लाभ, जब आंगनबाड़ी केंद्र खुद हैं बेहाल, कहीं रहते हैं बंद तो कहीं सेविका रहती है गायब, पढ़िए खास रिपोर्ट

LIVE PALAMU NEWS

रिपोर्ट: नितेश तिवारी

लाइव पलामू न्यूज/मेदिनीनगर: आंगनबाड़ी केंद्रों का संचालन सरकार इसलिए करती है ताकि सूदूर से सूदूर इलाकों के ग्रामीण भी लाभ ले सकें। लेकिन जब इन केंद्रों में ही ताला लटका रहेगा तो क्या लाभुक लाभ ले पाएंगे। कमोबेश हर आंगनबाड़ी केंद्रों की यही दशा है। इसी क्रम में पाटन प्रखंड के नौडिहा पंचायत अंतर्गत आने वाले ग्राम पाल्हे खुर्द के आंगनवाड़ी केन्द्र बंद रहते हैं। वहीं बच्चो और गर्भवती महिलाओं को उनका पोषक आहार भी नही मिलता। केंद्र बंद रहने के कारण भोजन भी नहीं बनती और ना ही मिलती है। इस आंगनबाड़ी का कोड संख्या 233 और 234 है। जहां का यह मामला है। मामले की जानकारी के बाद ज़िला परिषद सदस्य जयशंकर कुमार सिंह उर्फ संग्राम सिंह और नौडिहा पंचायत मुखिया रंजित सिंह ने आंगनबाड़ी केंद्र का औचक निरीक्षण किया। केंद्र संख्या 234 के निरीक्षण में उन्होंने पाया कि आंगनबाड़ी की हालत बहुत ख़राब है।

आंगनबाड़ी केंद्र बंद पड़ा था। वहीं सेविका सीमा शुक्ला और सहायिका सुजंती कुंवर केंद्र में उपस्थित नहीं थे। इस संबंध में स्थानीय ग्रामीणों ने बताया कि ये आंगनबाड़ी केंद्र हमेशा बंद ही रहता है। वहीं आंगनवाड़ी केंद्र संख्या 233 का निरीक्षण के दौरान पाया गया कि इस आंगनबाड़ी की सेविका कुंती देवी आंगनबाड़ी नहीं आती है और इसका संचालन सहायिका के द्वारा किया जाता है।ग्रामीणों ने बताया की दोनों आंगनबाड़ी केंद्रो में बच्चों के पोषाहार और मध्याह भोजन में बहुत धांधली होती है। निरीक्षण के बाद ज़िला परिषद सदस्य व मुखिया ने काफी नाराजगी जताते हुए संबंधित पदाधिकारी से शिकायत कर कार्रवाई की मांग की है। इस संबंध में समाज कल्याण पदाधिकारी संध्या रानी ने कहा कि मामले की जानकारी मिली है। जल्द ही दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी तथा स्पष्टीकरण भी मांगा जाएगा।

इसके अलावा दूसरी सेविका का चयन किया जाएगा । इस प्रकार आंगनबाड़ी केंद्रों का संचालन बंद रहेगा तो बच्चों और गर्भवती महिलाओं तक समुचित आहार कैसे पहुँचेगा। फिर तो आंगनबाड़ी खोलने का कोई औचित्य ही नहीं रहेगा। आवश्यकता है ज़िला प्रशाशन और जनप्रतिनिधियों को सचेत रहने की ताकि सरकार द्वारा दी जा रही सुविधाओं का लाभ अंतिम व्यक्ति तक पहुंच सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!