जिले में सुखाड़ की स्थिति से निपटने के लिए पदाधिकारियों ने किया बैठक

LIVE PALAMU NEWS

लाइव पलामू न्यूज/लातेहार: जिला अंतर्गत सुखाड़ की स्थिति से निपटने को लेकर आज समाहरणालय सभागार में कृषि निदेशक निशा उरांव एवं उपायुक्त भोर सिंह यादव की संयुक्त अध्यक्षता में बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में क़ृषि निदेशक ने कहा इस वर्ष जिले में विगत वर्षों की तुलना में काफ़ी कम बारिश हुई है । जिसका जिले में धान रोपाई में असर पड़ा है। लातेहार जिले में अबतक 22 फीसदी ही धान रोपनी हुई है। कम बारिश की वजह से लातेहार जिले के 5 प्रखंड सूखे से गंभीर प्रभावित हैं तथा शेष 4 प्रखंड सूखे से मध्यम प्रभावित हैं।

उन्होंने पदाधिकारियों को सूखे एवं इसकी वजह से फसल को क्षति के आंकलन हेतु स्थल निरीक्षण का कार्य बारीकी से करने का निर्देश दिया। उन्होंने बताया कि वर्तमान हालात और ट्रिगर टू के मापदंडों के तहत झारखंड के 200 प्रखंड सुखाड़ के दायरे में है। उन्होंने कहा कि सरकार और प्रशासन पूरे हालात पर नजर बनाए हुए हैं। बैठक में सुखाड़ की स्थिति से निपटने के लिए वैकल्पिक फसलों की खेती, रबी फसलों की खेती हेतु बीजों की ससमय आपूर्ति, फसल विविधता को बढ़ावा देने, झारखण्ड राज्य फसल राहत योजना एवं झारखण्ड क़ृषि ऋण माफ़ी योजना के क्रियान्वयन पर चर्चा की गयी।

क़ृषि निदेशक ने आगे बताया कि बिरसा बीज योजना के तहत किसानों को चना,सरसों इत्यादि फसलों के बीज 100 प्रतिशत अनुदान पर दिया जाएगा। बीज विनिमय योजना के तहत किसानों को गेंहूँ, मसूर इत्यादि फसलों के बीज 90 प्रतिशत अनुदान पर उपलब्ध कराया जाएगा । उन्होंने कहा इन दोनों योजना के तहत सूखा रोधी प्रभेदों के बीज उपलब्ध कराये जायेंगे। बैठक में उपायुक्त भोर सिंह यादव ने पदाधिकारियों को निर्देश दिया कि सुखाड़ की स्थिति से निपटने के लिए रबी फसल की खेती के लिए किसानों को ससमय बीज उपलब्ध कराएं साथ ही किसानों को फसल विविधिता बढ़ाने के लिए प्रेरित करें। बैठक में अपर समाहर्ता आलोक शिकारी कच्छप, जिला क़ृषि पदाधिकारी लातेहार रामशंकर प्रसाद सिंह, जिला सांख्यिकी पदाधिकारी संतोष भगत एवं अन्य पदाधिकारी उपस्थित थें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!