सांसद बीडीराम ने आइपीयू अधिवेशन के अंतिम दिन वैक्सीन इक्विटी का मुद्दा उठाया

LIVE PALAMU NEWS

लाइव पलामू न्यूज/मेदिनीनगर: आइपीयू के 144 वें अधिवेशन के अंतिम दिन 24 मार्च को पलामू सांसद बीडीराम ने कोविड -19 के टीका संबंधित वैक्सीन इक्विटी के संबंध में वक्तव्य दिया। उन्होंने कहा कि कोविड -19 का टीका प्रत्येक देश को आवंटित होना चाहिए। भले ही उस देश की आर्थिक स्थिति कैसी भी हो। टीकों तक पहुंच और आवंटन जाति, धर्म, आर्थिक, या किसी अन्य सामाजिक स्थिति के भेद-भाव किए बिना प्रत्येक मानव के स्वास्थ्य को ध्यान रखने के सिद्धांतों पर आधारित होना चाहिए।

वैश्विक स्तर पर, टीकों का वितरण राजनीतिक, आर्थिक, सामाजिक, राजनयिक और स्वास्थ्य संबंधी मामलों में सटीक और अप-टू-डेट डेटा और जानकारी वैक्सीन इक्विटी के बारे में अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की समझ का मार्गदर्शन करने में महत्वपूर्ण हैं और वैक्सीन इक्विटी पर अंतिम लक्ष्य प्राप्त करने के लिए आवश्यक स्पोर्ट की आवश्यकता है। कनाडा और ब्रिटेन जैसे अमीर देश ‘‘वैक्सीन जमाखोरी‘‘ में लिप्त हैं। इस बीच, गरीब और मध्यम आय वाले देशों ने अपने सबसे अधिक पीड़ित व्यक्तियों के स्वास्थ्य और अन्य फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं और वृद्ध लोगों की सुरक्षा के लिए पर्याप्त खुराक सुरक्षित करने के लिए संघर्ष किया है।

देश की क्रय शक्ति के आधार पर आवंटन प्रणाली को रोकने में मदद करने के लिए, कोविड-19 वैक्सीन ग्लोबल एक्सेस फैसिलिटी, जिसे COVAX के नाम से जाना जाता है, को गरीब और मध्यम आय वाले देशों को उनकी आबादी के अनुसार टीकाकरण करने में मदद करने के लिए बनाया गया था। वैश्विक सहयोग, डब्ल्यूएचओ, गावी, वैक्सीन एलायंस, और कोएलिशन फॉर एपिडेमिक प्रिपेयर्डनेस इनोवेशन (सीईपीआई) के सह-नेतृत्व में, 2021 के अंत तक कम से कम 2 बिलियन खुराक सुरक्षित करने और 92 गरीब देशों के लिए समान पहुंच सुनिश्चित करने के लक्ष्य को रखा गया था।उल्लेखनीय है कि 20 जनवरी 2021 में, भारत ने वैक्सीन मैत्री (वैक्सीन फ्रेंडशिप) पहल शुरू की।

वैश्विक स्तर पर कम आय वाले और विकासशील देशों को भारत में बने टीकों को उपहार और आपूर्ति करने के लिए एक प्रमुख कूटनीतिक प्रयास किया गया। कोविड-19 महामारी को रोकने के लिए, क्वाड नेताओं ने कोविड-19 के कारण उत्पन्न होने वाली आवश्यकताओं के लिए मिलकर काम करने का संकल्प लिया है। क्वाड द्वारा विश्व स्तर पर 1 बिलियन से अधिक टीके दान किए जाएंगे। 25 सितंबर 2021 तक, इंडो-पैसिफिक में अन्य देशों को कुल 79 मिलियन टीके दान किए गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Hello there
Leverage agile frameworks to provide a robust synopsis for high level overviews.
error: Content is protected !!