एमएमसीएच के कर्मियों पर दर्ज की गई प्राथमिकी, इलाज के दौरान लापरवाही का है आरोप

LIVE PALAMU NEWS

लाइव पलामू न्यूज/मेदिनीनगर: बुधवार (27अप्रैल) को अजंली देवी की मौत के बाद परिजनों ने मेदनीराय मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के स्टाफ पर लापरवाही का आरोप लगा कर जमकर बवाल काटा था। मामले को बढ़ता देख एमएमसीएच के अधीक्षक दिलीप सिंह ने जांच के लिए तीन सदस्यीय बोर्ड का गठन किया था और रिपोर्ट आने पर दोषियों पर कार्रवाई करने का आश्वासन दिया था। गुरुवार को इस मामले में एमएमसीएच के मेडीकल स्टाफ के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया गया । इनमें गायनी वार्ड के तीन डॉक्टर, नर्स समेत कई और स्वास्थ्य कर्मियों के खिलाफ मेदनीनगर टाउन थाना में सभी के खिलाफ आईपीसी की धारा 4/5 304 ए के तहत एफआईआर दर्ज करवाया गया है। सभी पर इलाज के दौरान लापरवाही बरतने का आरोप है।

मृतक अजंली देवी के पति विनोद कुमार बरई के आवेदन के आधार पर सभी के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। एफआईआर के बाद पुलिस ने मामले में अनुसंधान शुरू कर दिया है। एफआईआर में डॉ कादिर परवेज, डॉ प्रीति सिंह , डॉ आकाश, जीएनएम शीला कुमारी, सत्यवदा, कुसुम सांगा, एएनम सीमा कुमारी, कैसर खान, ओटी असिस्टेंट रानी कुमारी, योगेंद्र कुमार , दाई प्रभा देवी का नाम शामिल है। बता दें कि 26 अप्रैल को अजंली देवी को प्रसव के लिए मेदनीराय मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया था। अजंली देवी ने एक बच्चे को जन्म दिया था। 26 अप्रैल की देर रात अंजली देवी को खून की कमी के कारण रिम्स रेफर कर दिया गया था। रिम्स ले जाने के क्रम में उसकी मौत हो गई। मौत के बाद परिजनों ने लापरवाही का इल्जाम लगाकर जमकर हंगामा किया था। परिजन स्वास्थ्य कर्मियों पर कार्रवाई की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए थे। स्वास्थ विभाग ने अलग से पूरे मामले में जांच टीम का गठन किया है। जबकि मृतका के शव का मेडिकल बोर्ड ने पोस्टमार्टम किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Hello there
Leverage agile frameworks to provide a robust synopsis for high level overviews.
error: Content is protected !!