मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने की उच्चस्तरीय बैठक, पदाधिकारियों को सुखाड़ इलाकों की जमीनी हकीकत जांचने का दिया निर्देश

LIVE PALAMU NEWS

लाइव पलामू न्यूज/रांची: सूबे के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने आज उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक की। जिसमें उन्होंने अधिकारियों से राज्य के विभिन्न जिलों और प्रखंडों में हुई अल्प तथा फसलों की रोपाई की विस्तृत जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि सूखे से किसानों पशुपालकों और मजदूरों के साथ ग्रामीण परिवेश में रहने वाले लोगों को राहत देने के लिए अति शीघ्र विस्तृत योजना तैयार करते हुए सुखाड़ से निपटने के लिए सभी संबंधित विभाग विस्तृत कार्य योजना तैयार करें। मुख्यमंत्री ने सूखे की स्थिति को देखते हुए मिट्टी से जुड़े कच्चे कार्य शुरू करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। उन्होंने ग्रामीण इलाकों में कच्ची सड़क निर्माण, तालाब एवं डोभा निर्माण, खेतों में मेढ़ निर्माण आदि शुरू करने को कहा।

ताकि किसानों और मजदूरों को इनसे जोड़कर राहत पहुंचाया जा सके।मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि संथाल एवं पलामू प्रमंडल के कई इलाकों में कम बारिश की वजह से कृषि कार्य के साथ- साथ पेयजल एवं पशुओं के लिए भी जल संकट की स्थिति पैदा हो गई है। ऐसे में वरीय अधिकारी इन इलाकों का दौरा कर वहां की जमीनी हकीकत की जानकारी लें और उससे निपटने के लिए रिपोर्ट बनाकर सरकार को दें ताकि जल्द से जल्द प्रभावी कदम उठाया जा सके।मुख्यमंत्री ने कहा कि सूखे की वजह से राज्य से किसानों और मजदूरों का पलायन नहीं हो, इस पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। इस बैठक में स्वास्थ्य एवं आपदा प्रबंधन मंत्री बन्ना गुप्ता, कृषि मंत्री बादल पत्रलेख, मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, अपर मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह, प्रधान सचिव हिमानी पांडेय, मुख्यमंत्री के सचिव विनय कुमार चौबे, सचिव मनीष रंजन, सचिव अबू बकर सिद्दीक, सचिव केएन झा, सचिव अमिताभ कौशल, सचिव प्रशांत कुमार और कृषि निदेशक निशा उरांव उपस्थित थें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!