जानिए इस वर्ष कब से शुरु हो रही चैत्र नवरात्रि मां आएंगी घोडे़ पर और जाएंगी भैंसे पर

LIVE PALAMU NEWS

लाइव पलामू न्यूज: इस बार चैत्र नवरात्रि 2 अप्रैल से शुरु हो रहें हैं जो 11 अप्रैल को समाप्त होगी। शास्त्रानुसार इस बार मां घोड़े पर सवार होकर आएंगी जो कि राज परिवर्तन का संकेत है। ज्योतिष में एक श्लोक है जिसमें दिन के अनुरूप मां का वाहन निर्धारित होता है।

वह श्लोक है:-

शशिसूर्ये गजारूढ़ा शनिभौमे तुरंगमे। गुरौ शुक्रे च दोलायां बुधे नौका प्रकीर्तिता।


अर्थात रविवार या सोमवार को शुरू हो रही नवरात्रि में मां हाथी पर सवार आती हैं जो कि अत्यंत बारिश करवाता है। इसी प्रकार मंगलवार और शनिवार को शुरू हो रही नवरात्रि में मां घोड़े पर सवार आती हैं जो कि राज परिवर्तन का संकेत हैं। गुरुवार शुक्रवार को शुरू होने वाली नवरात्रि में मां का सवारी डोली होती है जो कि रक्तचाप, जन- धन हानी का सूचक है। बुधवार से शुरू होने वाली नवरात्रि में मां का वाहन नाव होता है जो कि भक्तों के दुख हरनेवाला होता है।


इसी प्रकार मां के जाने का दिन भी वार के अनुरूप निर्धारित होता है और वैसा ही फल देता है। यह श्लोक देखिए


शशिसूर्ये दिने यदि सा महिषागमने रुज शोककरा । शनि भौमे दिने यदि सा विजया चरणायुध यानि करी विकला।।


बुध शुक्र दिने यदि सा विजया गजवाहन गा शुभवृष्टि का। सुरराजगुरौ यदि सा विजया नरवाहन गा शुभ सौख्य करा।।


अर्थात नवरात्रि का समापन रविवार अथवा सोमवार को हो तो मां भैंसे पर जाती हैं जो कि शोक रोग बढ़ाने वाले होंगे। शनिवार और मंगलवार को नवरात्रि समाप्त हों तो मां मुर्गा पर सवार होकर जाती हैं। जो दुख व कष्ट बढ़ाने वाला होता है। वहीं अगर नवरात्रि का समापन बुधवार और शुक्ररवार को हो तो मां की वापसी हाथी पर होती है जो कि अति वृष्टि का सूचक है। अगर नवरात्रि का समापन गुरुवार को हो तो मां मनुष्य पर सवार होकर जाती है जो शुभता का सूचक है। यह सुख शांति बढ़ने का संकेत देता है।

देखें कब है रामनवमी

02 अप्रैल, शनिवार: चैत्र नवरात्रि का प्रारंभ, घटस्थापना या कलश स्थापना, मां शैलपुत्री पूजा, गुड़ी पड़वा 03 अप्रैल, रविवार: मां ब्रह्मचारिणी पूजा

04 अप्रैल: सोमवार: गणगौर, गौरी पूजा, मां चन्द्रघंटा पूजा05 अप्रैल, मंगलवार: विनायक चतुर्थी, मां कुष्मांडा पूजा

06 अप्रैल: बुधवार: स्कंद षष्ठी, मां स्कन्दमाता पूजा07 अप्रैल: गुरुवार: यमुना छठ, मां कात्यायनी पूजा

08 अप्रैल, शुक्रवार: महासप्तमी, मां कालरात्रि पूजा09 अप्रैल, शनिवार: महाष्टमी, कन्या पूजा, मां महागौरी पूजा, दूर्गा अष्टमी

10 अप्रैल, रविवार: राम नवमी, श्रीराम जन्मोत्सव11 अप्रैल, सोमवार: नवरात्रि पारण

12 अप्रैल, मंगलवार: कामदा एकादशी14 अप्रैल, गुरुवार: मेष संक्रांति, प्रदोष व्रत, हिन्दू नववर्ष का प्रारंभ16 अप्रैल, शनिवार: हनुमान जयंती, चैत्र पूर्णिमा

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. लाइव पलामू न्यूज़ इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Hello there
Leverage agile frameworks to provide a robust synopsis for high level overviews.
error: Content is protected !!