100 मीटर ऊंचा ट्विन टावर हुआ जमींदोज

LIVE PALAMU NEWS

लाइव पलामू न्यूज: रविवार को 2:30 बजे के करीब नोएडा के सेक्टर-93-ए में सुपरटेक के करीब 100 मीटर ऊंचे अवैध ट्विन टावर को नियंत्रित विस्फोट की मदद से ढहा दिया गया। बता दें कि इसे ढहाए जाने की तैयारी लंबे समय से चल रही थी। इसे गिराने में तकरीबन 3700 किलो विस्फोटकों का इस्तेमाल किया गया। ये विस्फोटक इमारतों के करीब 7,000 छेदों रखा गया था। इन सबमें एक साथ विस्फोट के लिए 20,000 सर्किट बनाए गए थे।

इमारत को ढहाए जाने से पहले चेतावनी के लिए सायरन बजाया गया। इसके बाद ट्रिगर की मदद से इसे गिरा दिया गया। इमारत के गिरते ही आसमान धूल के गुबार से भर गया। रविवार की सुबह तक ट्विन टावर के पास स्थित दो सोसाइटी में रह रहे तकरीबन 5,000 लोगों को निकाल लिया गया था। साथ ही रसोई गैस और बिजली की आपूर्ति बंद कर दी गई थी। इस ध्वस्तीकरण के मद्देनजर ट्विन टावर के आसपास के लगभग 500 वर्ग मीटर के क्षेत्र को वर्जित क्षेत्र में तब्दील कर दिया गया। जहां किसी भी इंसान, वाहन या जानवर को जाने की अनुमति नहीं थी। ध्वस्तीकरण के लिए 400 से अधिक पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया था। टावर ढहाए जाने से ठीक पहले अदालत के आदेशानुसार तकरीबन 40 लावारिस कुत्तों को रविवार को अस्थायी रूप से स्थानांतरित कर दिया गया था।

स्थानांतरित किए गए आवारा पशुओं को शाम तक क्षेत्र में वापस छोड़ दिया जाएगा।सुपरटेक ट्विन टावर्स को गिराने और उसके मलबे आदि के निपटान में करीब 17.5 करोड़ रुपये खर्च का अनुमान लगाया जा रहा है। इस इमारत के गिरने के बाद 55 से 80 हजार टन मलबे (3000 ट्रक) को हटाने में तीन महीने तक का समय लगने का अंदेशा है।

बताते चलें कि इन ट्विन टावर्स की ऊंचाई करीब 100 मीटर थी, जो कुतुब मीनार की ऊंचाई से भी अधिक है। इसे बनाने में तकरीबन 200 – 300 करोड़ का खर्च आया था। इस इमारत में 950 फ्लैट्स थें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!