जाने कैसे उतर कोयल मुख्य नहर सिंचाई परियोजना में छोड़ा 250 क्यूसेक पानी, कई दिनों से नाराज चल रहे थे किसान।।।

LIVE PALAMU NEWS

पलामू/हैदरनगर : हुसैनाबाद अनुमंडल के उतर कोयल मुख्य नहर सिंचाई परियोजना से आद्रा नक्षत्र में भी पानी नही छोड़ने को लेकर किसान काफी आक्रोशित थे। पिछले दिनों विभिन्न मीडिया में चली खबरों के बाद आनन-फानन में पानी छोड़ने के लिए अधिकारी व कर्मचारी जूट गए। हैदरनगर, हुसैनाबाद व मोहमदगंज के अलावा बिहार के नबीनगर व औरंगाबाद के कुछ भागों के जमीन लगभग 18 हजार हेक्टेयर भूमि को इसी उतर कोयल मुख्य नहर से पटवन की जाती है।

नहर में पानी नही छोड़ने के कारण किसानों के धान के बिजड़े नही डाले गए थे। ग्रामीण बताते हैं कि लगातार दो वर्षों से उतर कोयल मुख्य नहर का मरम्मती का कार्य काफी धीमी गति से चल रहा है जो आज भी अधूरा है। जिसके कारण नहर में पानी छोड़ने में लगातार दो वर्षों से विलम्ब हो रही है। किसानों ने यह भी कहा कि नहर में कार्य करा रहे बिहार के संवेदक द्वारा नहर के कार्य को घटिया तरीके से कराया जा रहा है, जिसका ग्रामीण सहित स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने भी पूर्वजोर विरोध किया था इसके बाद भी संवेदक अपने कार्यप्रणाली में सुधार नही हुई।
ग्रामीण यह भी बताते हैं कि निर्माण के जगहों पर हल्की बारिश में ही नहर की ढलाई में कई जगहों पर नहर का दरार आ गई जो जांच का विषय है। उतर कोयल मुख्य नहर में अब तक ट्रायल के लिए मात्र 250 क्यूसेक पानी को छोड़ा गया है, जो हुसैनाबाद अनुमंडल सहित नबीनगर क्षेत्र के कुछ भागों तक ही नहर का पानी पहुँच सकता है।
किसानों ने यह भी कहा कि नहर का पानी का बहाव अधिक नही बढ़ाया गया तो खेतों तक पानी नही पहुँचेगा। ग्रामीणों ने यह भी कहा है कि नहर के ढलाई में लगे संवेदक के कार्य प्रणाली का अविलम्ब जांच को अन्यथा नहर निर्माण कार्य के बाद से ही क्षतिग्रस्त हो जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!